कभी शिवराज ने जिन्हें नाराज किया आज उन्हीं रावत के दर पर…

भाेपाल । विधानसभा चुनाव की घोषणा होने से ठीक पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को मुख्य चुनाव आयुक्त ओ.पी. रावत से मिलने वाले हैं। रावत मध्यप्रदेश कैडर के ही आईएएस अफसर रहे हैं और कुछ साल पहले शिवराज ने रावत को चीफ सेक्रेटरी बनाने के बजाए दूसरे अफसर पर भरोसा जताया था, जिससे नाराज होकर रावत ने केंद्र शासन का रुख कर लिया था। रिटायरमेंट के बाद अब वे मुख्य चुनाव आयुक्त हैं, जिनकी देखरेख में विधानसभा के चुनाव होने हैं। नई दिल्ली में दोपहर करीब तीन बजे होने वाली चौहान और रावत की इस मुलाकात पर राजनीतिक दलों की नजरें लगी हुई हैं। शिवराज अपने साथ बीजेपी का एक डेलीगेशन भी ले जा रहे हैं, जो चुनाव संबंधी मसलों पर रावत से चर्चा करेगा और ज्ञापन देगा। मंगलवार को ही अपने निर्वाचन क्षेत्र बुधनी में मतदाताओं से चुनाव लडने के लिए धन संग्रह कर चुके शिवराज विधानसभा चुनाव के खर्च की सीमा में वृद्धि करने और प्रचार के लिए अधिक समय देने की मांग उठा सकते हैं। वहीं मतदाता सूचियों को लेकर लगने वाले आरोपों सहित अन्य मसलों पर भी इस दौरान बात होने की संभावना है। उम्मीद की जा रही है कि मध्यप्रदेश सहित चार राज्यों के विधानसभा चुनाव की घोषणा इसी हफ्ते हो सकती है। आचार संहिता लगने के डर से प्रदेश सरकार आनन-फानन में नियुक्तियों सहित अन्य कामकाज निपटा रही है।