कमलनाथ के कठिन सीट चक्रव्यूह से बच निकले, ज्योतिरादित्य गुना से टिकट मिलने पर सिंधिया ने जताया आलाकमान का आभार

भोपाल। गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र से एक बार फिर टिकट मिलने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व का आभार जताया है। इस क्षेत्र से चार बार के सांसद सिंधिया को मुख्यमंत्री कमलनाथ अपने कठिन सीट फार्मूले के तहत इंदौर, विदिशा या फिर ग्वालियर से चुनाव में उतारने की कोशिश में थे।
सिंधिया को गुना से टिकट देने की घोषणा कांग्रेस ने प्रदेश की तीसरी लिस्ट में की है। जिस पर उन्होंने पार्टी नेतृत्व को धन्यवाद दिया है। सिंधिया ने कहा है कि वे अपने परिवार के समान गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र के समस्त क्षेत्रवासियों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि सदैव की भांति क्षेत्र के विकास, प्रगति और उन्नति के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। उन्होंने विश्वास जताया है कि हमेशा की तरह मतदाताओं का समर्थन, सहयोग, व आशीर्वाद उन्हें बल प्रदान करेगा। बता दें कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस के बड़े नेताओं को पार्टी के लिए कठिन मानी जाने वाली सीटों से चुनाव लड़ने का सुझाव दिया था। उनके सुझाव पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भोपाल से उतारा गया। सिंह ने भोपाल में अपना काम भी तेज कर दिया है। सिंधिया को भी दिग्विजय की तर्ज पर इंदौर से उतारे जाने के कयास लग रहे थे, यह सीट भी कांग्रेस के लिए पिछले कई चुनावों से मुश्किल बनी हुई है। लेकिन सिंधिया गुना नहीं छोड़ना चाहते थे और वहीं अपना संपर्क अभियान चला रहे थे। सिंधिया का नाम घोषित होने के साथ कांग्रेस ने विदिशा की कठिन सीट से इच्छावर के पूर्व विधायक शैलेंद्र पटेल को टिकट दिया है। वहीं ग्वालियर और इंदौर सीट के लिए कांग्रेस को अभी भी मजबूत उम्मीदवार की तलाश है।