Breaking News

››  कांग्रेस के पक्ष में वातावरण को जीत में बदलना होगा : कमलनाथ ››  दिग्विजय सिंह पीसीसी में आज लेंगे समन्वय समिति की पहली बैठक ››  राज्यवर्धन ने पेले दण्ड तो एमपी BJP के राजेन्द्र ने जवाब में उठाया 110 किलो भार.. ››  कर्नाटक: कुमारस्वामी ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ , ››  समन्वय समिति में गौतम को शामिल किए जाने पर मंदसौर कांग्रेस इकाई में तेवर बागी,विधायक डंग का पीसीसी प्रतिनिधि पद से इस्‍तीफा ››  दिनभर यात्रियों हुए परेशान , शाम को बस हड़ताल समाप्‍त ››  बैतूल कलेक्टर को एफबी पर दी जान से मारने की धमकी देश के गृहमंत्री और बैतूल की सांसद के खिलाफ की आपत्तिजनक पोस्ट ››  भोपाल जिला कांग्रेस के अध्यक्ष की कमान कैलाश मिश्रा , अरुण श्रीवास्तव को ग्रामीण की कमान ››  कुमार होंगे कर्नाटक के स्वामी, 23 मई को लेगे मुख्यमंत्री पद की शपथ ››  मुख्यमंत्री जन-कल्याण योजना: गरीबों के इलाज की नि:शुल्क व्यवस्था की जायेगी: शिवराज

कर्नाटक विधानसभा चुनाव : BJP जीत के लिए चढ़ा रही एक लाख तुलसी के पौधे

 

कर्नाटक विधानसभा चुनाव जीतने की कोशिश में जुटी भाजपा के समर्थक यहां एक मशहूर मंदिर में तुलसी के पौधे भेंटकर पार्टी के लिए समर्थन मांग रहे हैं। उडुपी में करीब 800 साल पुराने श्री कृष्ण मंदिर में भाजपा की जीत की कामना को लेकर रोजाना कम से कम एक लाख तुलसी के पौधे चढ़ाए जा रहे हैं। उडुपी से करीब 22 किलोमीटर दूर शिरुरु गांव के 45 वर्षीय श्रद्धालु केश्वाचार्य 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनाव में मोदी और उनकी पार्टी के लिए 800 साल पुराने श्री कृष्ण मंदिर में पूजा करने गए। केश्वाचार्य ने कहा, मैंने मोदी की सफलता के लिए मंदिर में तुलसी का पौधा भेंट करने का फैसला किया है। दो अन्य श्रद्धालु गोविंद और कुमारस्वामी ने भी ऐसे ही विचार साझा किए। उन्होंने बताया कि राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली रैली में भाग लेने से पहले उन्होंने मंदिर में पूजा अर्चना की है। पालीमार मठ के विद्याशीष तीर्थ स्वामी ने भगवान कृष्ण के एक लाख तुलसी के पौधे भेंट करने का अभियान चलाया है। उन्हें मंदिर के प्रशासक का दूसरा कार्यकाल मिला है।
यह पूछने पर कि क्या मंदिर में केश्वाचार्य जैसे और श्रद्धालु आते हैं, उन्होंने कहा कि शायद आते हैं। यह जानना मुश्किल है कि श्रद्धालु मंदिर में क्या मन्नत मांगने आते हैं। हमने इस बारे में कभी नहीं पूछा। तुलसी के पौधों की बढ़ती मांग के साथ उडुपी में रोजगार के मौके भी बढ़े हैं। पिछले तीन महीने में यहां कई नर्सरियां बनाई गई हैं। मंदिर के लिए उडुपी में भी करीब 14 एकड़ भूमि में तुलसी की खेती की जा रही है। पूजा के बाद तुलसी के पौधे का आयुर्वेदिक दवाइयां बनाने में इस्तेमाल किया जाता है।