छापीहेड़ा और हरपालपुर नगर परिषद की अध्यक्ष को हटाने थमाया नोटिस , 15 दिनों में रखे अपना पक्ष

भोपाल।प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने  आते ही पहले प्रशासनिक अमले में फेलबदल किया अब महापौर व अध्यक्ष पर चाबुक चलाना शुरु कर दिया।  आप को बता दे कि कुछ दिनों पहले भाजपा के छिंदवाड़ा महापौर के बाद अब नगर परिषद छापीहेड़ा और हरपालपुर के अध्यक्ष पर पद से हटाने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
दोनों नगर परिषद के अध्यक्ष पर जांच पड़ताल के दौरान आर्थिक अनियमितता के मामले सामने आए हैं। हरपालपुर की नगर परिषद अध्यक्ष ममता बैसाखीया को नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा थमाए गए नोटिस में गृह कर पंजी में फर्जीवाड़ा कर अपना , अपने पति, जेठ, देवर के नाम अंकित करने का आरोप लगाया है। अध्यक्ष के द्वारा  यह गड़बड़ी  वर्ष 2014-15 की बाद की गई । इस मामले की लोकायुक्त में  शिकायत  होने के बाद जांच पड़ताल की गई थी। इस जांच पड़ताल में नगर परिषद की अध्यक्ष ममता वैसाखिया को दोषी पाया गया था। जबकि राजगढ़ जिले की छापीहेड़ा नगर परिषद की अध्यक्ष मान कुंवर विजय सिंह पर आरोप है कि कमीशन खोरी के चक्कर में हैंडपंप मरम्मत के लिए आवश्यकता से बहुत अधिक सामान की खरीदी कर ली गई। इतना ही नहीं सामान खरीदी प्रक्रिया में गुणवत्ता और मापदंड ओं का उल्लेख भी नहीं किया गया था। साथ ही जांच पड़ताल में स्टॉक पंजी के संधारण में भी अनियमितता पाई गई थी। दोनों नगर परिषद के अध्यक्ष को नगरी विकास एवं आवास विभाग के द्वारा जारी किए गए नोटिस में जवाब देने के लिए 15 दिन का समय दिया गया है।