Breaking News

››  आज बरसाना में लट्ठमार होली खेलने पहुंचेंगे CM योगी ››  मुख्य सचिव से मारपीट मामले में केजरीवाल से पूछताछ कर सकती है पुलिस,आप का आज देशभर में प्रदर्शन ››  कोलारस ,मुंगावली उपचुनाव:कडी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू ››  शराब की भयंकर आदी थी पूजा ,पिता ने ऐसे बदल दी जिंदगी ››  चुनाव आयोग ने CM को दी सलाह , माया सिंह को नोटिस, 25 तक मांगा जवाब, सिंधिया का जवाब संतोषप्रद नहीं,आयोग ने की निंदा ››  CS से बदसलूकी के विरोध में मध्यप्रदेश IAS एसोसिएशन, सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन की उठाई मांग ››  कोलारस क्षेत्र को दी मुख्यमंत्री ने 1 हजार करोड़ की सौगातें : डॉ. मिश्रा ››  मुंगावली और कोलारस : कल शाम पांच बजे थम जाएगा चुनाव प्रचार, शिवराज के तूफानी दौरे, दिन-रात किए एक, ››  राज्यपाल की सुरक्षा में बड़ी चूक : काफिले में अचानक घुसी गाय, ››  रमन सरकार की मुश्किलें बढ़ाएंगे, 23 फरवरी को राजधानी घेरेने की तैयारी में किसान

पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग

 

GSझारखंड पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने पेट्रोल और डीजल को भी जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की है। अध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि कुछ पेट्रोलियम उत्पादों को इसके दायरे में लाया जा चुका है। इसमें लुब्रिकेंट सहित अन्य शामिल हैं। ऐसे में पेट्रोल-डीजल को भी दायरे में लाया जाना चाहिए। इससे एक मूल्य व्यवस्था पूरे देश में लागू हो जाएगा। सभी को हर तरह से सहूलियत होगी। इसका अधिक लाभ आम जनता को मिलेगा। उन्होंने कहा कि इन उत्पादों पर सबसे अधिक राजस्व केंद्र और राज्य सरकार को मिलता है। डीजल में 58 प्रतिशत तक टैक्स है। पेट्रोल में प्रति लीटर 36 रुपये टैक्स लिया जा रहा है। जीएसटी में अधिकतम 28 प्रतिशत टैक्स का प्रावधान है। अधिकतम के दायरे में पेट्रोलियम पदार्थ को रखने के बाद भी आम जनों के लिए यह काफी सस्ता हो जाएगा। सरकार को बिना देर करते हुए इसे जीएसटी में ले आना चाहिए। वाणिज्यकर विभाग के प्रमंडल और अंचल कार्यालय में 10 जुलाई से ट्रेनिंग शुरू हो रही है। सचिव केके खंडेलवाल ने बताया कि यह कार्यालय परिसर स्थित कांफ्रेंस हॉल में शाम तीन बजे से 6.30 बजे तक चलेगा। विशेषज्ञों द्वारा जीएसटी के प्रावधान, लाभ के बारे में जानकारी दी जाएगी। व्यापारी, सीए से लेकर हर वर्ग के लोग यहां जा सकते हैं। जीएसटी को लेकर किसी भी तरह की समस्या का निराकरण पा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही सरल कर प्रणाली है। थोड़ा समझने की जरूरत है।

 
पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग