मंत्री नहीं बनने पर छलकी लक्ष्मण सिंह की पत्नी की पीड़ा

भोपाल। कमलनाथ कैबिनेट में जगह नहीं मिलने पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ने तो कुछ नहीं बोला, लेकिन उनकी पत्नी रूबीना सिंह का दर्द छलक पड़ा है। उन्होंने कहा है कि देश ने पिछले एक माह में देखा है कि उनके (लक्ष्मण सिंह) साथ कैसा व्यवहार किया गया है।
प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कयास लग रहे थे कि दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह के साथ उनके भाई लक्ष्मण सिंह को भी मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी। लेकिन पांच बार के सांसद और तीसरी बार विधायक बने लक्ष्मण सिंह को मंत्री नहीं बनाया गया। उन्होंने पार्टी के इस फैसले को स्वीकार भी किया। अब सरकार बनने के करीब बीस दिन बाद उनकी पत्नी रूबीना शर्मा सिंह ने ट्वीट कर उन्हें कैबिनेट में नहीं लिए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस प्रवक्ता रवि सक्सेना ने दिग्विजय सिंह और लक्ष्मण सिंह को राम-लक्ष्मण बताता एक फोटो कल ट्विटर पर पोस्ट किया था। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए रूबीना सिंह ने लिखा है कि हां, मेरे पति सच में लक्ष्मण हैं। उन्होंने कहा है कि लक्ष्मण सिंह ने बलिदान दिया है। देश ने पिछले एक महीने में देखा है कि उनके साथ कैसा व्यवहार किया गया है। वे सभ्य और भावुक हैं एवं कुछ भी कहने में संकोची हैं। रूबीना ने विश्वास जताया है कि जल्दी ही उनके अच्छे दिन आएंगे। उन्होंने लिखा है- जैसा जाएगा, वैसा ही आएगा…प्रतीक्षा करें और देखें।