Breaking News

››  जब तक सदाचार नहीं बढ़ेगा तब तक दुराचार और भ्रष्टाचार नहीं मिटेगा : बाबा रामदेव ››  जबलपुर में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले- लोकतंत्र की प्राथमिक पाठशाला है पंचायत ››  प्रधानमंत्री मंडला में पंचायत राज दिवस और आदि महोत्सव में शामिल होंगे ››  रेप की घटनाओं के लिए पोर्न साइट्स जिम्मेदार : भूपेंद्र सिंह ››  ‘संविधान बचाओ’ अभियान में राहुल का मोदी पर हमला, कहा- खुद की बात करते हैं पीएम ››  आरक्षण के विरोध में ब्राह्मण समाज ने अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन, ››  नए नियमों से पहली बार 14 सेवानिवृत्त तहसीलदारों को संविदा नियुक्ति ››  अक्षय तृतीया के अवसर पर सेवा समर्पण संस्थान का कन्या विवाह समारोह सम्पन्न सहरिया समाज के 24 जोडों का दाम्पत्यि जीवन में प्रवेष ››  धूमधाम से मनाया गया भगवान परशुराम जन्मोंत्सव , 501 दीपों से की गई भगवान परशुराम की आरती ››  राकेश सिंह ने संभाला प्रदेशाध्यक्ष का पदभार

सरकारी खर्च पर विदेश में कोचिंग करेंगे खिलाड़ी

 

images rayरायपुर 16 साल बाद प्रदेश की खेल नीति बदलने जा रही है। नई खेल नीति में प्रदेश के खिलाड़ियों को विदेश में कोचिंग मिलेगी। कोचिंग का पूरा खर्च खेल विभाग उठाएगा। अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर गोल्ड मेडल लाने वाले खिलाड़ियों को खेल निखारने पॉलिसी लागू की जाएगी। वहीं खिलाड़ियों के लिए नौकरी में 2 प्रतिशत आरक्षण का नियम लागू किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि खेल नीति बनकर तैयार है। 29 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय खेल दिवस पर लागू की जाएगी। बता दें कि प्रदेश के अलग-अलग खेल संघों से आए सुझाव के बाद खेल नीति संशोधन कर बनाई गई है। इसमें सबसे अहम उन बिन्दुओं को ध्यान में रखा गया है, जिससे खेल और खिलड़ियों का विकास हो सके।

नेशनल स्तर की कोचिंग और किट प्रदेश में

रायपुर, दुर्ग-भिलाई, बिलासपुर और राजनांदगांव में खेल विभाग नई खेल नीति की तहत नेशनल स्तर की कोचिंग देने की तैयारी कर रहा है। जहां उच्च स्तर के कोच, स्पोर्ट्स किट खिलाड़ियों को उपलब्ध करवाई जाएगी। स्पेशल कोचिंग की सुविधा उन खिलाड़ियों को मिलेगी, जो लगातार नेशनल और इंटरनेशन में बेहतर परफॉर्मेंस कर रहे हैं।

ओलिंपिक गेम्स पर फोकस

खेल विशेषज्ञों का मानना है कि जो खेल नीति लागू होने जा रही है, उसका पूरा फोकस ओलिंपिक गेम्स पर है। खिलाड़ियों को उसी लेवल पर तैयार किया जाएगा। इसमें सबसे खास बात है कि खेल विभाग ओलिंपिक गेम्स पर ज्यादा ध्यान दे रहा है। पिछले कुछ वर्षों में जिन खेलों में खिलाड़ियों ने बेहतर प्रदर्शन कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया उन्हें स्पेशल सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी। वहीं आगामी नेशनल गेम्स पर भी फोकस होगा। जिन खेलों में पिछले वर्ष सिल्वर तक सीमित रह गए थे उन्हें गोल्ड की तैयारी करवाई जाएगी।

इनका कहना है

नई खेल नीति बनकर तैयार है। खेल विभाग ने ओलिंपिक खेलों को ध्यान में रख पॉलिसी को लागू करेगा। विदेशों में कोचिंग भी खिलाड़ियों को दी जाएगी।

-राजेंद्र डेकाटे, सहायक संचालक, खेल विभाग

 
सरकारी खर्च पर विदेश में कोचिंग करेंगे खिलाड़ी