Breaking News

››  जब तक सदाचार नहीं बढ़ेगा तब तक दुराचार और भ्रष्टाचार नहीं मिटेगा : बाबा रामदेव ››  जबलपुर में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले- लोकतंत्र की प्राथमिक पाठशाला है पंचायत ››  प्रधानमंत्री मंडला में पंचायत राज दिवस और आदि महोत्सव में शामिल होंगे ››  रेप की घटनाओं के लिए पोर्न साइट्स जिम्मेदार : भूपेंद्र सिंह ››  ‘संविधान बचाओ’ अभियान में राहुल का मोदी पर हमला, कहा- खुद की बात करते हैं पीएम ››  आरक्षण के विरोध में ब्राह्मण समाज ने अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन, ››  नए नियमों से पहली बार 14 सेवानिवृत्त तहसीलदारों को संविदा नियुक्ति ››  अक्षय तृतीया के अवसर पर सेवा समर्पण संस्थान का कन्या विवाह समारोह सम्पन्न सहरिया समाज के 24 जोडों का दाम्पत्यि जीवन में प्रवेष ››  धूमधाम से मनाया गया भगवान परशुराम जन्मोंत्सव , 501 दीपों से की गई भगवान परशुराम की आरती ››  राकेश सिंह ने संभाला प्रदेशाध्यक्ष का पदभार

सावन का पहला सोमवार: शिव मंदिरों में गूंजा बम-बम भोले,

 

kasiसावन के प्रथम सोमवार देश भर  के मंदिरों में जलाभिषेक करने वाले भक्तों का तांता लगा है। कांवरिया  रविवार की शाम से ही शहर में डेरा डाल लिए हैं। इस बार महिला कांवरियों के साथ ही लड़कियां भी कांवर उठाएं दिखीं। आज सावन का पहला सोमवार है इसलिए भगवान के मंदिर में सुबह साढ़े चार बजे ही शिव मंदिरों में जलाभिषेक करने वाले भक्तों की लंबी लंबी कताीरें देखने को मिल रही हैं। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश छत्ताद्वार होना है। बाबा के दर्शन को लगायी गयी बैरेकेडिंग देरशाम होते ही भक्तों की कतार से हाउसफुल हो गया। एक ओर गोदौलिया और दूसरी ओर नीचीबाग तक दर्शनार्थी डटे रहे। मंदिर परिसर बिल्व पत्र और फूलों की खूश्बू से आच्छादित रहा तो बाबा की भष्मी का सौंदर्य काशी में हर ओर दिखा। हर-हर महादेव से गंगा तट व काशी का कोना-कोना गुलजार है। रविवार को ही करीब 40 हजार कांवरियों ने बाबा का दर्शन किये। गंगा तट हो या शहर का कोई भी मार्ग हर ओर बस बोल-बम, बोल-बम का नारा बुलंद रहा। कांधे पर कांवर उठाये हजारों कांवरिये काशी में विचरण करते दिखे। नजर जिधर भी जाएं आंखे केशरीयामय हो जाती। कॉवरियों की उपस्थित से भोले की नगरी केशरिया रंग में ढ़ली दिखी। बाबा का दर्शन-पूजन करने के बाद नगर के विभिन्न शिवालयों में भी कांवरिये जल चढ़ाते दिखे। ज्यादातर कॉवरियों का जत्था पैदल ही काशी पहुंचा है। इनके साथ डीजे तो था लेकिन कानून के चलते मौन रहा।रविवार को कैथी स्थित मार्कण्डेय महादेव, सारनाथ स्थित सारंग देव, रोहनिया स्थित शूलटंकेश्वर महादेव, मृत्युंजय महादेव, गौरी केदारेश्वर महादेव, तिलभाण्डेश्वर महादेव, बीएचयू स्थित श्री विश्वनाथ मंदिर आदि शिवालयों में जलअर्पित करते दिखे।

 
सावन का पहला सोमवार:  शिव मंदिरों में गूंजा बम-बम भोले,