7 चरणों में होगा लोकसभा चुनाव, सख्त नियमों और बेहतर सुविधाओं के साथ होंगे

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 की आज शाम मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने  घोषणा कर दी। पत्ररकारों से चर्चा के दौरान उन्होंने कई ऐसा बातें बताई, जो इस चुनाव में पहली बार होगी। उन्होंने कहा कि चुनाव पूरी निस्पक्षता और चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के साथ होंगे। साथ ही इस बार उम्मीदवारों को भी कई नियम-कायदों का ख्याल रखना पड़ेगा।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि चुनाव को सुचारु रूप से संचालित करने के लिए चुनाव आयोग ने कई राज्यों का दौरा किया। चुनाव की घोषणा करने से पहले परीक्षाओं का और त्यौहारों का भी ख्याल रखा गया।

चुनाव की तैयारियों के लिए कई दौर की बैठक की गई और चुनाव को लेकर संबंधित एजेंसियों से बात की गई। उन्होंने कहा कि इस बार चुनाव में 90 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे और 18 से 19 साल के डेढ़ करोड़ वोटर पहली बार ईवीएम का बटन दबाएंगे।

चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि टोल फ्री नंबर 1950 पर फोन कर चुंनाव संबंधी जानकारी ली जा सकती है। वोट डालने के लिए फोटो पहचान पत्र के अलावा 11 तरह के दूसरे आईडी भी मान्य होंगे। चुनाव आयोग चुनाव खर्च पर विशेष निगरानी रखेगा। इसके साथ ही सभी पोलिंग स्टेशनों पर VVPAT होगी।

लोकसभा चुनाव में पहली बार VVPAT का इस्तेमाल किया जाएगा। इस बार EVM में उम्मीदवार का फोटो भी होगा। साथ ही आचार संहिता तोड़ने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

उम्मीदवारों को आपराधिक केस की जानकारी अनिवार्य रूप से देनी होगी और सभी उम्मीदवारों को शपथपत्र भी देना होगा। लाउडस्पीकर पर रात 10 से सुबह 6 बजे तक प्रतिबंध रहेगा।

संवेदनशील इलाकों में CRPF की तैनाती रहेगी और संवेदनशील इलाकों में स्पेशल पर्यवेक्षक तैनात किए जाएंगे। EVM की सुरक्षा के कड़े इंतजाम होंगे। चुनाव आयोग में शिकायत के लिए मोबाइल एप बनाया गया है। आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत भी एप के जरिए होगी।

EVM की मूवमैंट की GPS से ट्रैकिंग की जाएगी और चुनाव प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाएगी। चुनाव आयोग ने सोशल मीडिया पर भी लगाम कसी है और कहा है कि अब सोशल मीडिया अकाउंट की जानकारी भी उम्मीदवारों को अनिवार्य रूप से देनी होगी। इसके साथ ही सोशल मीडिया के विज्ञापनों पर भी निगरानी रखी जाएगी।