May 4, 2021

Best workout forms to lose weight with PCOS : PCOS से परेशान लड़कियां हो जाती हैं मोटी, वजन घटाने के लिए जरूर करें ये 4 Workout

PCOS से ग्रसित हर महिला की आंतरिक जीवनशैली में कई बदलाव होते हैं। ऐसे में वजन कम करना पीसीओएस ( PCOS) से लडऩे का अच्छा फॉमूर्ला है। वजन कम करने के लिए पीसीआएस से पीडि़त महिला के लिए व्यायाम या एक्सरसाइज को बहुत अच्छा माना गया है।

एक्सरसाइज से न केवल बढ़ा हुआ वजन कम होता है, बल्कि हार्मोनल विनियमन से निपटने और लक्षणों को अच्छी तरह से प्रबंधित करने में भी मदद मिलती है। ऐसी कई एक्सरसाइज हैं, जिन्हें नियमित रूप से करने पर वजन तो घटेगा ही बल्कि PCOS जैसी समस्या भी ठीक हो जाएगी।
(फोटो साभार: istock by getty images)

​50 प्रतिशत बीमारी को ठीक करता है व्यायाम-

50-

PCOS महिलाओं में काफी सामान्य हार्मोनल विकार है, जो अंडाशय में छोटे अल्सर के बढऩे के कारण होता है। PCOS के लक्षणों में इंफर्टिलिटी, इरैगुलर पीरियड्स, पीरियड्स के दौरान दर्द, अनचाहे बाल, लोअर बैली पर एक्स्ट्रा फैट जैसी समस्याएं शामिल हैं। यह रोग हार्मोन के असंतुलन के कारण होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि 50 प्रतिशत तक इस रोग को व्यायाम और आहार से ठीक किया जा सकता है।

वहीं कुछ अध्ययन का कहना है कि नियमित एक्सरसाइज करने से हार्मोनल विकार से जूझ रही महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ावा दिया जा सकता है। तो चलिए आज हम आपको उन एक्सरसाइज के बारे में बताएंगे, जिन्हें करने से आपको PCOS में बहुत फायदा मिलेगा। इससे पहले जानते हैं कि पीसीओएस में व्यायाम करना क्यों जरूरी है।

​PCOS में व्यायाम क्यों जरूरी है-

pcos-

PCOS वाली महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन के कारण पेट की चर्बी और वजन बढऩा आम है। PCOS में मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है, जिस वजह से महिलाएं चाहकर भी वजन कम नहीं कर पाती या फिर इसे घटाने में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। इतना ही नहीं समय के साथ PCOS महिलाओं को प्री -डायबिटीज और डायबिटीज के जोखिम में डाल सकता है, जो सूजन और वजन बढऩे से जुड़े हैं।

ऐसे में इन महिलाओं के लिए एक्सरसाइज किसी गेम चेंजर की तरह है। व्यायाम और शारीरिक गतिविधि इंसुलिन प्रतिरोध से निपटने में मदद कर सकती है, जो पॉलिसिस्टिक अंडाशय से जुड़े कारकों में से एक है। दूसरा, नियमित रूप से व्यायाम करने से महिलाओं को कोलेस्ट्रॉल , कम टेस्टेस्टेरॉन और कोर्टिसोल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

​हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग

इस एक्सरसाइज को बिना किसी इक्यूपमेंट के किया जाता है। ये काफी एनर्जेटिक है और इसे करने से अच्छी मात्रा में कैलेारी बर्न होती है। इस एक्सरसाइज को कर लिया, तो आपका हार्ट हमेशा के लिए फिट रहेगा।

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार, महिलाओं को लंबे कार्डियो वर्कआउट सेशन के बजाय छोटे बाउट्स पर फोकस करना चाहिए। बेहतर है अपने रूटीन में जंपिंग जैक, स्क्वैट्स, प्लैंक अपडाउन जैसी एक्सरसाइज शामिल करें।

​सबसे अच्छे PCOS वर्कआउट्स-

-pcos-

स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वर्कआउट-

महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए वेट स्ट्रेंथ टे्रनिंग वर्कआउट वैज्ञानिक रूप से अच्छे साबित हुए हैं। इस व्यायाम को करने से शरीर में मांसेपशियों का निर्माण होने के साथ फैट लॉस बहुत जल्दी होता है। कैलोरी जलाने के लिए यह बेहतरीन एक्सरसाइज है। हल्का या कम भारी वजन उठाना, अपनी बॉडी वेट का उपयोग करना, अधिक कैलोरी जलाना और प्रभावी ढंग से वेट मैनेज करना स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के शानदार तरीके हैं। कई अध्ययनों में कहा गया है कि जब आप वजन उठाते हैं, तो यह मासंपेशियों की मजबूती के लिए बहुत अच्छा है।

​कार्डियो वर्कआउट्स

फैट लॉस के लिए कार्डियो वर्कआउट्स काफी पसंद किया जाता है। अगर आप PCOS की समस्या है, तो स्ट्रेंथ और इंटरवेल ट्रेनिंग एक्सरसाइज का कॉम्बिनेशन बहुत फायदेमंद है। एरोबिक, , दौडऩा, टहलना, तेज चलना भी पीसीओएस के कई लक्षणों से निपटने में मदद कर सकता है। बस नियमित रूप से इसे करना जरूरी है।

​मन और शरीर का व्यायाम

तनाव भी PCOS का एक लक्षण है। हाल ही में किए गए कुछ शोधों के अनुसार, मन से किया गया व्यायाम तनाव से राहत दिलाता है। इसके साथ ही वेट मैनज करने में भी मददगार है। नियमित रूप से कैलेारी बर्न करने के लिए योग, ताई वची पिलेट्स जैसे व्यायाम किए करें। ये कोर्टिसोल के स्तर को कम करने और तनाव से दूरी बनाने में मदद करेंगे। बता दें कि तनाव सूजन और वजन बढऩे के लिए जिम्मेदार है।

याद रखें, कि कोई भी एक्सरसाइज करना एक्सरसाइज न करने से ज्यादा बेहतर है। ऊपर दी गई एक्सरसाइज को पढ़कर आप समझ ही गए होंगे कि यह सभी पीसीओएस ( PCOS) के साथ लक्षणों में कितना बदलाव ला सकती है। इसलिए पीसीओएस की समस्या होने पर प्राथमिकता से इन एक्सरसाइज को रोजाना करने की आदत डालें।

अंग्रेजी में इस स्‍टोरी को पढ़ने के लिए यहां क्‍लिक करें


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *