January 14, 2021

Congress leader Rahul Gandhi today extended special prayers and wishes for farmers protesting against the controversial farm laws – मकर संक्रांति, पोंगल के बहाने केंद्र पर राहुल गांधी का निशाना, आंदोलनकारी किसानों को दी विशेष शुभकामनाएं 

मकर संक्रांति, पोंगल के बहाने केंद्र पर राहुल गांधी का निशाना, आंदोलनकारी किसानों को दी विशेष शुभकामनाएं 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मकर संक्रांति, पोंगल बिहू के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं.

खास बातें

  • मकर संक्रांति, पोंगल के बहाने केंद्र सरकार पर राहुल गांधी का निशाना
  • आंदोलनरत किसानों को दी विशेष शुभकामनाएं, की प्रार्थना
  • तमिलनाडु जाकर जल्लीकट्टू समारोह के बनेंगे गवाह

नई दिल्ली:

कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने आज मकर संक्रांति, पोंगल बिहू के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं. इसके साथ ही उन्होंने विवादास्पद कृषि कानूनों (New Farm Laws) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को “विशेष प्रार्थना और शुभकामनाएं” दी हैं.  इसके बहाने उन्होंने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर भी निशाना साधा है.

यह भी पढ़ें

राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, “फसल कटाई का मौसम आनंद और उत्सव का समय होता है. मकर संक्रांति, पोंगल, बिहू, भोगी और उत्तरायण की बहुत-बहुत शुभकामनाएं! हमारे उन किसान-मज़दूर भाइयों के लिए विशेष प्रार्थनाएँ और शुभकामनाएँ जो शक्तिशाली ताकतों के खिलाफ अपने अधिकारों के लिए लड़ रहे हैं.”

कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार पर राहुल गांधी का वार- ‘अन्नदाता समझता है आपके इरादे’

 कांग्रेस नेता ने अपने दूसरे ट्वीट में आज के तमिलनाडु दौरे के बारे में भी लिखा है. उन्होंने लिखा है कि वह आज विवादित जल्लीकट्टू उत्सव के गवाह बनेंगे. उन्होंने तमिल में लिखा,  “मैं आज आपके साथ पोंगल मनाने तमिलनाडु आ रहा हूँ. मैं मदुरै में जल्लीकट्टू उत्सव में भाग लूंगा.” दक्षिणी राज्य के कांग्रेस नेताओं ने कहा कि उनकी यात्रा “किसानों और साहसी तमिल संस्कृति का सम्मान करेगी.” 

किसान कानून पर ममता सरकार के मंत्री ने जाम किया हाइवे, दूसरे रास्ते ले जाई गई वैक्सीन वैन : सूत्र

Newsbeep

बता दें कि दिल्ली की सीमा पर तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हजारों किसानों का समर्थन करते रहे हैं. इन प्रदर्शनकारियों में पंजाब, हरियाणा और अन्य राज्यों के किसान शामिल हैं. उनका आरोप है कि केंद्र सरकार ने नए कानूनों के जरिए उन्हें कॉरपोरेट्स के भरोसे छोड़ दिया है.

वीडियो- कृषि कानूनों पर बनी समिति 2 माह में देगी रिपोर्ट पर किसान नेता चर्चा को नहीं तैयार




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *