May 4, 2021

how to improve oxygen level: Covid-19 Fact Check: क्‍या शरीर में तुरंत ऑक्सीजन लेवल बढ़ा सकती है ये आयुर्वेदिक दवा? जानें इस दावे पर डॉक्टर का सच – fact check can ayurvedic medicine trailokya chintamani ras increase oxygen levels in covid patient read what ayurvedic doctor advice

Covid Second wave: कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच अस्पतालों में सबसे ज्यादा ऑक्सीजन की किल्लत देखने को मिल रही है। कोविड मरीजों के ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल के कम होने से हर दिन सैकड़ों मरीजों की मौतें हो रही हैं। ऐसे में तमाम लोग अब अपने ऑक्सीजन लेवल को घरेलू नुस्खों के जरिए मैनेज कर रहे हैं। हाल के दिनों में सोशल मीडिया पर भी कोविड के इलाज से रिलेटड तमाम तरह की पोस्ट वायरल हो रही हैं। किसी पोस्ट में कोरोना से बचाव के लिए इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए घरेलू उपायों को बताया जाता है तो किसी में ऑक्सीजन सैचुरन लेवल को बढ़ाने के तरीकों के बारे में जानकारी दी जाती है।

इन दिनों एक कुछ और पोस्ट काफी वायरल हो रही है जिसमें आयुर्वेदिक दवा त्रैलोक्य चिंतामणि रस को ऑक्सीजन लेवल को तुरंत बैलेंस करने के लिए कारगर बताया जा रहा है। जब लोगों ने इसे अपने Whatsapp, Facebook और Twitter पर एक दूसरे को शेयर करना शुरू किया तो सरकार ने ऑक्सीजन बढ़ाने वाली इस दवा के बारे में जानकारी दी है। इसके साथ ही हमने आयुर्वेदिक दवा त्रैलोक्य चिंतामणि रस को लेकर डॉक्टर से भी सलाह ली। जानिए ऑक्सीजन बढ़ाने के लिए क्या सच में असरदार हैं त्रैलोक्य चिंतामणि रस…
(फोटो साभार: istock by getty images)

त्रैलोक्य चिंतामणि रस पर सरकार की सफाई

इस ​वायरल दवा पर आयुष मंत्रालय का रियक्शन

त्रैलोक्य चिंतामणि रस (Trilokya chintamani ras) की पोस्ट को शेयर कर आयुष मंत्रालय ने फैक्ट चेक कर लिखा, ‘सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर की जा रही है, जिसमें ऑक्सीजन की कमी के लिए दवा बताई गई है और सैचुरेशन लेवल तुरंत बढ़ने का दावा किया गया है; दरसल असत्यापित स्त्रोतों द्वारा पब्लिश की गई है। आयुष मंत्रालय ऐसी अनवेरीफाइड सोर्स द्वारा प्रकाशित किसी भी विज्ञापन का समर्थन नही करता है। कृपया ऐसे गंभीर हालातों में स्वयं दवा का इस्तेमाल न करें। केवल चिकित्सक की सलाह से ही दवा लें।’

जानकारी के लिए आपको बता दें कि आयुष मंत्रालय की ओर से भी एक दवा तैयार की गई है। आयुर्वेदिक दवा आयुष 64 कोरोना के माइल्ड और हल्के लक्षण वाले मरीजों के लिए कारगर है इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। आयुष 64 टेबलेट में होती है और मंत्रालय ने 2020 में भी कोरोना इलाज के लिए सहायक बताया था।

100% सही नहीं होता RT-PCR टेस्ट, कोविड निगेटिव आने पर रहें सावधान और इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

​इस दावे पर क्‍या कहते हैं आयुर्वेदिक डॉक्टर

जीवोत्तमा आयुर्वेद केंद्र, बैंगलोर के आयुर्वेद वैद्य डॉ. शरद कुलकर्णीM.S (Ayu),(Ph.D.) से जब हमने इस बारे में बातचीत की तो उन्हानें कहा, ‘यह दवा ओवर द काउंटर (OTC) मेडिसिन की तरह नहीं लेनी चाहिए, जिसे बगैर डॉक्‍टर के प्रिस्क्राइब किए बिना खरीद कर लिया जा सके। इस दवा को हमेशा आयुर्वेद डॉक्‍टर के सुपरविजन में ही लिया जाना चाहिए, नहीं तो नुकसानदायक साबित हो सकती है।

कोविड से ठीक होने के बाद अगर आपकी कोई थैरेपी चल रही है, तो यह दवा उसके साथ एक सपोर्टिव थैरेपी का काम कर सकती। मरीज की गंभीर हालत होने पर डॉक्‍टर की निगरानी में एलोपैथ के साथ आयुर्वेद दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन हम यह दावा नहीं कर सकते कि इस दवा से कोविड ठीक हो जाएगा या शरीर में ऑक्‍सीजन लेवल बढ़ जाएगा।’

वैक्सीन लगवाने जा रहे हैं सेंटर तो इन 5 बातों का रखें ध्यान, कहीं कोरोना की चपेट में न आ जाए जा

​जानिए क्‍या है आयुर्वेदिक दवा त्रैलोक्य चिंतामणि रस

डॉ. शरद कुलकर्णी ने बताया कि त्रैलोक्य चिंतामणि रस श्वसन प्रणाली (Respiratory system) और सर्कुलेटरी सिस्‍टम को मजबूती देती है, क्‍योंकि इसमें कई प्रकार के मिनरल्‍स पाए जाते हैं, जैसे- आयरन, गोल्‍ड और मैगनीज आदि। यह इम्‍यूनिटी बढ़ाती है और कोविड से रिकवर होने के बाद शरीर में आई कमजोरी को भी दूर करती है। यह फेफड़ों की कार्य क्षमता को भी बढ़ाती है।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *