September 26, 2021

Quick weight loss: डाइट कंट्रोल कर तेजी से वजन घटाने से होंगे फायदे या नुकसान? जानिए

मोटापा अधिक बढ़ जाने पर आप खुद में भारीपन महसूस करते हैं। यही एक कारण होता है जब आपने मन में जल्दी से वजन घटाने का विचार आता है। लेकिन वेट लॉस (Weight loss) करना हर किसी के लिए आसान नहीं होता, क्योंकि इसके लिए कड़ी मेहनत और डेडिकेशन की जरूरत है। भागमभाग भरी जिंदगी में लोग अपने खान-पान पर भी खास ध्यान नहीं दे पाते, जिसका नतीजा होता है

मोटापा। जो इतनी जल्दी कम नहीं होता जितना कि लोग सोचते हैं। तमाम विशेषज्ञों का मानना है कि लंबे समय तक फिट और हेल्दी रहने के लिए हर हफ्ते 1/2 से 1 किलोग्राम कम करना सबसे अच्छा तरीका है। वहीं कई लोग एक फिक्स डाइट के जरिए जल्दी से वेट लॉस करने के प्लान को फॉलो करते हैं। लेकिन तेजी से वजन कम करना क्या सही है? इस आर्टिकल में हम आपको इसी मामले के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।
(फोटो साभार: istock by getty images)

​शरीर को नहीं मिल पाते जरूरी पोषक तत्व

अगर आप तेजी से वेट लॉस (Weight loss) करने पर विचार करते हैं तो कैलोरी रेस्ट्रिक्ट डाइट (Calorie-restricted diets) प्लान के जरिए पोषक तत्वों की कमी को जन्म दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, कीटो आहार (keto diet) कार्बोहाइड्रेट को खत्म करता है। भोजन से प्राप्त मैक्रोन्यूट्रिएंट यानी कार्बोहाईड्रेट, फैट और प्रोटीन (Carbohydrates, fat and protein) जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है।

ये सब जरूरी तत्व कीटो डाइट से नष्ट हो जाते या इनकी शरीर में आपूर्ति होती है। जैसे डेयरी फ्री डाइट कैल्शियम की कमी का कारण हो सकती है, जबकि लॉ कार्ब डाइट से आपके शरीर को पर्याप्त फाइबर नहीं मिलेगा। जबकि कम कैलोरी वाले आहार में भी शरीर को कैल्शियम, विटामिन डी, विटामिन बी-12, फोलेट और आयरन सहित विभिन्न प्रकार के खनिज प्राप्त करना जरूरी है।

हर साल खराब Kidney से जूझते हैं लाखों लोग, गुर्दे की सेहत के लिए डाइट में शामिल करें ये 8 फूड

​रेपिड वेट लॉस से शरीर में दिखते हैं ये लक्षण

शरीर में कार्बोहाइड्रेट पूरी तरह से खत्म होने और जरूरी प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों की कमी होने पर भी कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

  • सुस्त पड़ जाना
  • सिरदर्द
  • चक्कर आना
  • चिड़चिड़ा महसूस करना
  • थकान
  • एनिमिया
  • बाल झड़ना
  • मेटाबॉलिज्म रेट में गिरावट
  • कब्ज
  • महिलाओं में मासिक धर्म की अनियमितता

​मानसिक स्वस्थ्य के लिए हानिकारक

जल्दी वजन घटाने (quick weight loss) का विचार आपके मानसिक स्वास्थ्य (Mental health) के लिए हानिकारक हो सकता है। आपके लिए नए बॉडी और शेप में तालमेल बिठाना मुश्किल हो सकता है। इससे खान-पान की समस्याएं (eating problems) बढ़ सकती है और मानसिक बीमारी (mental illness) का खतरा बढ़ सकता है।

संजीवनी बूटी से कम नहीं Brahma Kamal फूल, घाव भरने से लेकर इन गंभीर बीमारियों का करता इलाज- रिसर्च

​कैलोरी रेस्ट्रिक्ट डाइट से नष्ट होती हैं मसल्स

तेजी से वजन घटाने वाली डाइट अक्सर फैट लॉस (Fat loss) की बजाय मांसपेशियों की हानि (muscle loss) का कारण बनती है। जब आप लंबे समय तक कैलोरी रेस्ट्रिक्ट डाइट का पालन करते हैं, तो आपके मसल्स टोन कम होने की संभावना रहती है। कैलोरी रेस्ट्रिक्ट डाइट आपकी बॉडी को एनर्जी और फ्यूल के लिए मांसपेशियों को ब्रेक कर सकती है। मसल्स में फैट की तुलना में चयापचय दर (metabolic rate) अधिक होती है।

एक किलोग्राम मांसपेशी हर दिन एक किलोग्राम फैट की तुलना में अधिक कैलोरी बर्न करती है। वहीं अगर आप ऐसी डाइट के जरिए मांसपेशियों को खो देते हैं तो हर दिन कम कैलोरी बर्न करेंगे। ऐसे में आपने वेट लॉस को लक्ष्य को चाहकर भी हासिल नहीं कर सकते हैं। आवश्यक मांसपेशियां कम होने से शरीर को नुकसान पहुंचाता है।

​मेटाबॉलिज्म पर बुरा असर पड़ता है।

आपको इस बात का एहसास नहीं होता, लेकिन तेजी से वजन घटाने के प्रोसेस से आपका चयापचय (metabolism) धीमा हो सकता है। जब आप कैलोरी रेस्ट्रिक्ट डाइट को फॉलो करते हैं तो आपका शरीर खाद्य पदार्थों में कमी (depleting food supplies) के संकेत देता है और इससे आपकी भूख मर जाती है।

इस दौरान आपका मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है जिसके चलते आपका शरीर ऊर्जा बचाने में असमर्थ होता है और अतिरिक्त वसा जमा करता है। हाल के एक शोध में पता चला है कि वजन कम करने के साथ ही वॉलिंटियर्स का मेटाबॉलिज्म भी कम हो गया। साथ ही शोध में शामिल हुए कई लोगों ने अधिक वेट गेन किया।

इस तरह भी रह सकते हैं फिट

कई लोग हेल्दी और फिट रहने के लिए Long-term weight loss के रूटीन को फॉलो करते हैं, जिसमें हेल्दी डाइट, बेहतर नींद, अधिक फिजिकल एक्टीविटी, तनाव यानी स्ट्रेस कम और मेंटल डवलपमेंट पर ध्यान देना शामिल है। अपनी वेट लॉस जर्नी में कुछ मनोरंजन और सुखद पलों को अवश्य शामिल करें। यदि आप हाई इंटेसिटी वाले वर्कआउट (high-intensity workouts) करने में सक्षम नहीं या इसमें आनंद नहीं ले पा रहे हैं हो तो पगडंडी पर लंबी ट्रेकिंग करें और टहलना शुरू करें। इसमें थोड़ा नाश्ता या चॉकलेट का बार ले सकते हैं।

इस आर्टिकल को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *