April 8, 2021

radish leaves benefits in hindi: मूली के पत्तों में छिपा है पौषक तत्वों का भंडार, थकान दूर करने के साथ ही शुगर होती है कंट्रोल – benefits of radish leaves or muli patte ke fayde in hindi

मूली का सेवन तो आपने कई बार किया होगा, लेकिन क्या कभी आपने मूली के पत्ते खाए हैं। अगर नहीं, तो अब खाना शुरू कर दें, क्योंकि इनमें मूली की तुलना में अधिक पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा इन पत्तों के सेवन से गंभीर बीमारियों को बढ़ने से रोका जा सकता है।

वैसे तो मूली का उपयोग सलाद और सूप में सबसे ज्यादा किया जाता है। लेकिन न केवल मूली बल्कि इसके पत्ते भी पौष्टिकता से भरपूर हैं। आमतौर पर कई लोग इन्हें बेकार समझकर फेंक देते हैं। लेकिन इन्हें फेंक देने का मतलब है अपने स्वास्थ्य का नुकसान करना। क्योंकि केवल मूली ही नहीं, इनके पत्ते भी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। मूली में पाए जाने वाले बहुत सारे विटामिन और मिनरल्स आपकी सेहत को दुरुस्त बनाते हैं। अगर आप अपने आहार में इन पत्तों को शामिल कर लें, तो कई रोगों से बचना आसान हो जाएगा। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में जानते हैं कि मूली के पत्तों के स्वास्थ्य लाभ के बारे में। (सभी फोटोज: इंडियाटाइम्स)

पोषक तत्वों का भंडार

मूली के हर पत्ते में पूरी मूली की तुलना में ढेरों पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा मूली के पत्ते आयरन, कैल्शियम, फॉलिक एसिड, विटामिन सी, फास्फोरस से भरपूर हैं, जो शारीरिक कार्यों के लिए बहुत जरूरी हैं। रिसर्च के अनुसार, इसमें मौजूद विटामिन ए और विटामिन सी वाइट ब्लड सेल्स के निर्माण में मदद करते हैं। इनका सेवन किया जाए, तो न केवल सर्दी-जुकाम बल्कि कैंसर, डायबिटीज और हृदय रोग जैसी गंभीर बीमारियों से भी निजात पाई जा सकती है।

थकान दूर करें

अगर आपका शरीर अक्सर थका हुआ रहता है, तो आपको मूली के पत्तों का सेवन शुरू कर देना चाहिए। इसमें उच्च मात्रा में मौजूद आयरन और फास्फोरस बॉडी की इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। वहीं विटामिन सी, विटामिन ए, थियामिन जैसे मिनरल्स भी थकान से निपटने में मदद करते हैं। न्यूट्रिटिव वैल्यू ऑफ इंडियन फूड्स की रिसर्च के अनुसार व्यक्ति को हर दिन एक कप मूली के पत्ते खाने चाहिए।

पाइल्स का इलाज करें

मूली के पत्ते बवासीर जैसी दर्दनाक स्थितियों के लिए रामबाण इलाज साबित हुए हैं। अपने एंटीबैक्टीरियल गुणों के कारण मूली के पत्ते सूजन को कम कर सकते हैं। इसके लिए पिसे हुए सूखी मूली के पत्तों को बराबर मात्रा में पानी और चीनी के साथ मिलाएं। इस पेस्ट का या तो आप सेवन कर सकते हैं या फिर सूजन वाली जगह पर लगा सकते हैं।

पीलिया ठीक करें

मूली के पत्तों में पीलिया जैसे रोगों का इलाज करने के गुण हैं। पीलिया में जब व्यक्ति का शरीर पीला पड़ जाता है, इस स्थिति में मूली के पत्ते बहुत असरदार होते हैं। जानकारी के अनुसार, मूली के पत्तों का उपयोग खून के भीतर ऑक्सीजन की आपूर्ति को बेहतर बनाने के लिए होता है, जो त्वचा का पीलापन हटाते हैं। पीलिया के लक्षण दिखने पर इसकी पत्तियों को कुचलें और इसके अर्क को छलनी से छान लें। इस रस को रोजाना दस दिनों तक पीएं। पीलिया एकदम ठीक हो जाएगा।

स्कर्वी को रोकें

मूली के पत्ते स्कर्वी को रोकने में बहुत लाभकारी हैं। आपको जानकर हैरत होगी कि मूली के पत्तों में जड़ों की तुलना में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी होता है, जो स्कर्वी जैसे रोग को रोकने के लिए बहुत जरूरी है।

गठिया रोग में आराम दिलाएं

गठिया में घुटनों में सूजन की वजह से व्यक्ति का चलना तो दूर, कुछ देर खड़ा होना भी मुश्किल हो जाता है। मूली में बहुत सारे पोषक तत्व और विटामिन होते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य को स्वस्थ बनाने के लिए काफी हैं। मूली के पत्तों के अर्क को समान मात्रा में चीनी और पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को घुटनों के जोड़ों पर लगाने से दर्द में बहुत आराम मिलेगा।

गठिया के रोगियों को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, यहां जानें पूरी बात

डायबिटीज को बढ़ने से रोकें

मूली के पत्ते मधुमेह रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद हैं। रोगी को इन्हें अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए। इनमें ऐसे कई गुण हैं, जो ब्लड शुगर लेवल को कम करके मधुमेह को बढ़ने से रोकते हैं।

Diabetes है तो एक दिन में न खाएं इतनी चम्‍मच से ज्‍यादा चीनी, बढ़ सकता है शुगर लेवल

विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालें

विषाक्त पदार्थों के बाहर निकलने पर ही शरीर स्वस्थ बन सकता है। ऐसे में मूली के पत्ते आपका काम आसान कर सकते हैं। दरअसल, मूली के पत्तों में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। ये पोषक तत्व और एंटीबैक्टीरियल गुण बॉडी को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करते हैं।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में लाभकारी है मूली का जूस, यह है बनाने का तरीका


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *