June 28, 2020

MP: हनी ट्रैप केस में फरार जीतू सोनी गुजरात से गिरफ्तार, 56 केस में है आरोपी

दो दिन पहले गुजरात से ही गिरफ्तार हुआ था जीतू का भाई

जीतू सोनी के खिलाफ प्रदेश में 56 केस दर्जउसके नाम 1.60 लाख का इनाम घोषित था

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर से प्रकाशित होने वाले एक अखबार के मालिक जीतू सोनी को क्राइम ब्रांच ने इंदौर से अरेस्ट किया है. जीतू सोनी के खिलाफ रेप, गैंग रेप, मानव तस्करी और जबरन वसूली सहित 56 केस दर्ज हैं.

मध्य प्रदेश के बहुचर्चित हनी ट्रैप केस मामले में इंदौर पुलिस ने गुजरात में जाकर गिरफ्तारी की है. इंदौर से प्रकाशित होने वाले एक अखबार के मालिक जीतू सोनी को क्राइम ब्रांच ने गुजरात से अरेस्ट किया है. जीतू सोनी के खिलाफ रेप, गैंग रेप, मानव तस्करी और जबरन वसूली सहित 56 केस दर्ज हैं.

मध्य प्रदेश में पिछली कमल नाथ सरकार द्वारा सोनी के खिलाफ बलात्कार, गैंगरेप, मानव तस्करी और जबरन वसूली सहित 56 मामले दर्ज किए गए थे.

इससे पहले, सांझा लोकस्वामी अखबार के मालिक जीतू सोनी के भाई, महेंद्र सोनी को पुलिस ने गुजरात के अमरेली से गिरफ्तार किया था. महेंद्र सोनी पर पूर्ववर्ती मध्य प्रदेश सरकार ने 10,000 का ईनाम रखा था. महेंद्र सोनी को भी जीतू सोनी के साथ कई मामलों में सह आरोपी बनाया गया था. जीतू सोनी पर तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने कई कार्रवाई की थी.

राज्य में कमलनाथ सरकार ने शिवराज सिंह चौहान और उनके टॉप सलाहकारों और बीजेपी नेताओं की लड़कियों से कथित बातचीत को अखबार में छापने के बाद जीतू सोनी के खिलाफ एक्शन लिया था.

जीतू सोनी ने साथ बातचीत का ऑडियो अपने अखबार के यूट्यूब चैनल पर भी जारी कर दिया था. मध्य प्रदेश पुलिस ने उस पर एक लाख साठ हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. पूर्व की कांग्रेस सरकार के समय यानी 31 नवंबर 2019 को पुलिस ने पहली बार उसके होटल माय होम सहित अन्य ठिकानों पर छापा मारा था. तब जीतू सोनी फरार हो गया था. तब से पुलिस उसके तलाश में जुटी हुई थी.

जीतू के खिलाफ कड़ी कार्रवाई

दरअसल हनी ट्रैप का खुलासा करके सुर्खियों में आए अखबार मालिक जीतू सोनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई थी. इंदौर नगर निगम ने प्रेस कॉम्प्लेक्स क्षेत्र में स्थित सांझा लोकस्वामी के दफ्तर को भी तोड़ने का आदेश दिया था.

जीतू सोनी सांझा लोकस्वामी अखबार के मालिक हैं. अखबार के लिए जीतू सोनी ने इंदौर विकास प्राधिकरण (आईडीए) से जमीन लीज पर ली थी, जिसकी लीज को खारिज कर दिया गया था. जीतू सोनी के कई होटलों और बंगलों को पहले ही जमींदोज किया जा चुका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed