Saturday, April 13, 2024
HomeBreaking Newsखजुराहो में राग बसंत की लय पर बना गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड, जनजातीय...

खजुराहो में राग बसंत की लय पर बना गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड, जनजातीय और लोक कलाओं के प्रशिक्षण के लिए देश का पहला गुरुकुल खजुराहों में खुलेगा : मुख्यमंत्री डॉ. यादव

कथक करते हुए 1484 घुंघरू साधकों ने दिखाई भारतीय संस्कृति की झलक*

यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल खजुराहों में राग बसंत की लय पर 1484 कथक नृत्य साधकों के थिरकते कदमों ने 20 फरवरी 2024 को गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड रच दिया। हाथो में दीपक लेकर जब लय और ताल के साथ घुंघरू साधकों के कदम मिले तब भारतीय संस्कृति और परंपरा एक साथ मुस्कुरा उठीं। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के प्राचीन वाद्य यंत्र नगाड़ा की ताल और नृतकों के घुंगुरुओं की झंकार ने 50वें खजुराहों नृत्य समारोह की ऐतिहासिक उपलब्धि को यादगार बना दिया।  मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सम्पूर्ण भारत में सांस्कृतिक पुनरुत्थान का पर्व मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में भगवान नटराज महादेव को समर्पित साधना की यह उपलब्धि भारतीय संस्कृति का गौरव बन भावी पीढ़ी का मार्गदर्शन करेंगी। नृत्य आराधना परमात्मा की साधना का मार्ग है। यह ईश्वर से सीधा संपर्क का पवित्र माध्यम हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रदेश के विभिन्न शहरों से आए नृत्य गुरुओं और नर्तक नृत्यांगनाओं को कीर्तिमान रचने पर बधाई और शुभकामनाएं दी। सुप्रसिद्ध नृत्य गुरु राजेंद्र गंगानी की कोरियोग्राफी में प्रदेश के विभिन्न शहरों से आए नर्तक नृत्यांगनाओं ने 20 मिनट की प्रस्तुति को राग बसंत में निबध्द कर प्रस्तुत किया।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड की उपलब्धि को विशेष बनाते हुए खजुराहो में देश के पहले जनजातीय और लोक कलाओं के प्रशिक्षण के लिए गुरुकुल स्थापित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि गुरुकुल में जनजातीय और ग्रामीण समुदायों की पारंपरिक कलाओं मसलन शिल्प, नृत्य, गायन, वादन, चित्र और उनके मौखिक साहित्य को वरिष्ठ गुरुओं के माध्यम से प्रशिक्षण की व्यवस्था रहेगी। इस गुरुकुल की परिकल्पना इस तरह से होगी, जहाँ ग्रामीण जनजीवन में उनके समग्र विकास के साथ पारंपरिक हुनर और देशज ज्ञान पद्धतियों को संरक्षण मिलेगा। साथ ही पूर्वजों की विरासत को भी विस्तार मिलेगा।

*उपस्थिति*

सांसद खजुराहो व्ही.डी. शर्मा, संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेन्द्र सिंह लोधी, वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री दिलीप अहिरवार, विधायक राजनगर अरविंद पटेरिया, छतरपुर विधायक ललिता यादव, बिजावर विधायक राजेश शुक्ला, महाराजपुर विधायक कामाख्या प्रताप सिंह, नगर परिषद अध्यक्ष अरुण अवस्थी, चंद्रभान सिंह गौतम सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे। प्रशासनिक अधिकारियों में प्रमुख सचिव पर्यटन शिवशेखर शुक्ला, डीआईजी ललित शाक्यवार, कलेक्टर संदीप जी.आर., एसपी अमित सांघी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। साथ ही बड़ी संख्या में कला प्रेमी और आमजन ऐतिहासिक क्षण के साक्षी बने।उल्लेखनीय है कि विश्व संगीत नगरी ग्वालियर में डेढ़ माह पहले ही तानसेन समारोह के अंतर्गत ताल दरबार कार्यक्रम में एक साथ 1,282 तबला वादकों की प्रस्तुति ने “गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड” में मध्यप्रदेश का कीर्तिमान स्थापित किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

RECENT COMMENTS