Saturday, April 13, 2024
HomeBreaking Newsउज्जैन मे स्थापित होगी विश्व की पहली वैदिक घड़ी, 1 मार्च को...

उज्जैन मे स्थापित होगी विश्व की पहली वैदिक घड़ी, 1 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल तरीके से करेंगे लोकार्पण

विश्व की पहली वैदिक घड़ी 1 मार्च 2024 को वेधशाला परिसर में बनाए जा रहे टॉवर पर स्थापित की जाएगी। इसका निर्माण डिजिटल तकनीक से लखनऊ की संस्था आरोहण द्वारा किया गया है। जीवाजीराव वेधशाला परिसर में वैदिक घड़ी की स्थापना के लिए 85 फिट का टॉवर तैयार किया गया है। इस घड़ी को सम्राट विक्रमादित्य शोधपीठ द्वारा लगाया जा रहा है। बताया जाता है कि यह घड़ी इंटरनेट और जीपीएस से जुड़ी होगी, जिससे कही भी इसका उपयोग किया जा सकेगा। इस घड़ी को मोबाइल और टीवी पर भी लगाया जा सकेगा। इसके लिए विक्रमादित्य वैदिक घड़ी मोबाइल एप जारी किया जाएगा। इसका लोकार्पण आगामी 1 मार्च 2024 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा वर्चुअल रूप से किया जाएगा। उज्जैन में स्थापित होने जा रही विश्व की पहली वैदिक घड़ी में ग्रीन विच टाइम जोन के 24 घंटों को 30 मुहूर्त (घटी) में बांटा गया है। इसे लगाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को भारतीय समय गणना से परिचित कराना है।

 पहले उज्जैन फिर अन्य शहरों में भी लगाई जाएगी,

सम्राट विक्रमादित्य शोध पीठ के निदेशक डॉ. श्रीराम तिवारी के मुताबिक वेधशाला में तैयार की गई इस वैदिक घड़ी के लगने के बाद उज्जैन का प्राचीन गौरव लौटेगा और दुनिया के इतिहास में फिर से उज्जैन नगरी का नाम दर्ज होगा। उज्जैन के बाद देश के दूसरे प्रमुख शहरों में भी वैदिक घड़ी लगाने की योजना बनाई जाएगी। 

डिजिटल होगी घड़ी,

जीपीएस से जुड़ सकेगीपूर्व संभाग आयुक्त मोहन गुप्त ने जानकारी देते बताया कि वैदिक घड़ी में मौजूदा ग्रीन विच पद्धति के 24 घंटों को 30 मुहूर्त (घटी) में बांटा गया है। हर घटी के धार्मिक नाम हैं, जिनका खास मतलब है। घड़ी में घंटे, मिनट और सेकंड वाली सुई रहेगी। यह घड़ी सूर्योदय के आधार पर समय की गणना करेगी। इसका उपयोग मुहूर्त (ब्रह्म मुहूर्त, राहु काल आदि) की गणना और समय से संबंधित अन्य कामों में भी किया जा सकेगा। वैदिक घड़ी इंटरनेट और जीपीएस से जुड़ी होगी, जिसके कारण कहीं भी इसका उपयोग किया जा सके। आपने यह भी बताया कि काल गणना के भारतीय समय को घड़ी के रूप में प्रदर्शित करना ही इस घड़ी को लगाने का मुख्य उद्देश्य है। शुरुआत से ही हम चाहते थे कि एक ऐसी घड़ी बनाई जाए जिसमें घटी, घंटा, पल, मिनट के साथ ही मुहूर्त और सूर्योदय, सूर्यास्त व सूर्य व चंद्र ग्रहण की भी जानकारी लग सके। यह घड़ी पंचांग की तरह काम करेगी और वह सभी जानकारी लोगो को बता पाएगी जो की पंचांग से हमें प्राप्त होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

RECENT COMMENTS