Monday, February 26, 2024
HomeBreaking Newsमोहन के मंत्री पर क्यों भड़कीं उमा भारती?

मोहन के मंत्री पर क्यों भड़कीं उमा भारती?

सैलरी न लेने वाले सबसे अमीर परोपकारी सेठ हैं मंत्री चेतन्य काश्यप

सैलरी न लेने वाले चेतन्य काश्यप हैं परोपकारी सेठ

भोपाल। मध्यप्रदेश की डॉ मोहन यादव सरकार के एक नए मंत्री चेतन्य काश्यप से पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती केवल इसलिए नाराज हो गईं हैं क्योंकि काश्यप विधायक के तौर पर मिलने वाला वेतन और भत्ता नहीं लेते। तीसरी बार के विधायक चेतन्य बीते दो कार्यकाल की तरह इस बार भी सरकारी वेतन आदि नहीं लेंगे इसकी प्रबल संभावना है। उनकी यही बात उमा भारती को चुभ गई।

उमा भारती Uma Bharti ने सोशल प्लेटफार्म X पर एक लंबी पोस्ट में चेतन्य काश्यप Chetnya Kashyap के परोपकार और ईमानदारी की बखिया उधेड़ी। भारती ने कहा है कि हाल ही में मंत्री बने तथा रतलाम के एक संपन्न जैन व्यवसायी चेतन कश्यप ने अपनी संपत्ति 296 करोड़ घोषित की हैं । अभी कुछ दिनों पहले मध्यप्रदेश के अखबारों में उनकी तारीफ़ लिखी थी की वो अपना विधायक का वेतन नहीं लेते जो की साल भर का क़रीब 12 लाख होता हैं । 296 करोड़ वाला व्यक्ति अगर सरकार के 12 लाख छोड़ देता है तो इसमें कौनसी बड़ी बात हैं। चेतन कश्यप सरकार को वेतन वापिस करने के बजाय वह राशि अभावग्रस्त लड़कियाँ की शिक्षा पर खर्च करें। हमे यह याद रखना पड़ेगा की सभी विधायक बड़े व्यवसायी नहीं होते और ना वो राजनीति से अपना व्यवसाय बढ़ाते हैं। एक बार सांसद वरुण गाँधी ने कहा था की सांसदों को तनखा एवं पेंशन नहीं लेना चाहिए । वरुण गाँधी ऐसा कर सकते है क्यूँकि वो हज़ारो करोड़ों की पैतृक संपत्ति के मालिक है । अपना सर्वस्व त्यागकर राजनीति के माध्यम से जनसेवा करने वाले जनप्रतिनिधियों को हर तरह की सहूलियत सरकार से मिलनी चाहिए। अगर विधायकों और सांसदों को ईमानदारी की राह पर चलना आसान बनाना है तो चेतन कश्यप जैसे पूँजीपति विधायकों को छोड़कर सभी विधायक की तनखा एवं अन्य भत्ते आज की सभी परिस्थितियों को देखकर मिलना चाहिए।

बता दें कि खानदानी उद्योगपति चेतन्य काश्यप प्रदेश के सबसे अमीर मंत्री और विधायक हैं। वे 2013 में पहली बार MLA बने थे और उन्होंने विधानसभा सचिवालय को पत्र लिख कर वेतन न लेने की जानकारी दी थी। 2018 में भी यही उन्होंने किया। राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष रहते हुए भी उन्होंने वेतन आदि नहीं लिया। काश्यप को रतलाम में उनके सेवा कार्यों के लिए भी जाना जाता है। अपनी गांठ से पांच करोड़ से अधिक राशि लगा कर उन्होंने गरीबों के मकान भी बना कर दिए हैं। हाल ही में मोहन यादव मंत्रिमंडल Cabinet में उन्हें मंत्री Minister बनाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

RECENT COMMENTS